धारा 499 आईपीसी क्या है पूरी जानकारी

धारा 499 क्या है 

नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सब मैं आप सभी का आज के आर्टिकल में स्वागत करता हूं आज हम आपको ipc की धारा 499 क्या है इसके अंतर्गत होने वाले सभी अपराध व कानून के बारे में स्पष्ट रूप से जानकारी आप तक लाए हैं 

दोस्तों आज हम आईपीसी की धारा 499 को सरल व आसान शब्दों में आप को समझाने की पूरी कोशिश करेगे कि आपको स्पष्ट हो जाए आईपीसी 499 धारा क्या है?

दोस्तों आप लोगों ने यह अक्सर सुना होगा या देखा होगा या किसी अखबार या न्यूज़ के जरिए जाना होगा कि किसी व्यक्ति ने किसी पर मानहानि का मामला दर्ज कराया होगा। 

या दोस्तों किसी नेता ने किसी दूसरे नेता या मंत्री या न्यूज़ रिपोर्टर के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज कराया होगा दोस्तों आज हम इस लेख के जरिए आपको इन्हीं सब जानकारियों को अवगत कराएंगे कि क्या है मानहानि का दावा दर्ज कराना। और मानहानि के लिए सजा का क्या प्रावधान है

दोस्तों हमें यह पूर्ण विश्वास है की आप हमारे द्वारा दी गई जानकारियों से ज्ञान प्राप्त कर पाएंगे और हमारे जानकारियों से अपने मन में उठे सवाल को पूर्णतः समझ पाएंगे

दोस्तों ऐसे ही हमारे साथ अंत तक बने रहिए जिससे की आपके मन में उठे सवालों की जानकारी आपको इस लेख के द्वारा प्राप्त हो सके। 

मानहानि क्या है 

दोस्तों समाज की प्रतिष्ठा और खुद की आत्मरक्षा या मान सम्मान की सुरच्छा करना हर प्रत्येक मनुष्य का पूर्णतः अधिकार होता है 

दोस्तों हमारे संविधान में भी यह कहा गया है कि किसी व्यक्ति की प्रतिष्ठा व मान सम्मान किसी भी संपत्ति से अधिक मूल्यवान होती है

दोस्तों हर कोई व्यक्ति यह चाहता है कि किसी भी कारणवश उसकी सामाजिक प्रतिष्ठा वह मान सम्मान पर कोई आंच ना आए

और दोस्तों इस अधिकार को बनाए रखने के लिए कानून के तहत मान्यता प्राप्त है की इसके पश्चात कोई भी अगर किसी व्यक्ति के द्वारा बोले गए या पढ़े जाने के लिए आशियित शब्दों द्वारा या संकेतों द्वारा या दृष्टि रूपणो द्वारा किसी व्यक्ति के बारे में कोई लांछन इस आशय में लगता या प्रकाशित करता है तो ऐसे उत्पीड़न या लांछन से उस व्यक्ति की अपहानि की जाए तो व्यक्ति की प्रतिष्ठा को किसी प्रकार का आघात या हानि पहुंचाना की मानहानि कहा जाता है

दोस्तों हमारे संविधान में प्रत्येक व्यक्ति को यह अधिकार दिया गया है कि वह अपने परिवार की सुरक्षा और मान सम्मान की रक्षा स्वयं करें अगर कोई भी व्यक्ति आप के मान सम्मान को किसी प्रकार से ठेस पहुंचाता है

तो वह भारतीय दंड संहिता के अनुसार अपराधी माना जाएगा और उस पर आईपीसी की धारा 499 के अंतर्गत लागू होगा से जुड़ी किसी अपराध के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 500 के तहत दंडनीय अपराध माना जाएगा। और से दंडित किया जाएगा। 

आईपीसी की धारा 499 क्या है ?

दोस्तों जो कोई भी व्यक्ति किसी व्यक्ति को जानबूझकर उसकी मान सम्मान, उसके परिवार या आत्म सम्मान एवम् उसकी सामाजिक प्रतिष्ठा को किसी प्रकार से क्षति पहुंचाता है तो वह धारा 499 के तहत अपराधी माना जाएगा।  

दोस्तों भारतीय दंड संहिता की धारा 499 के अनुसार जो कोई भी बोले गए या पढ़े जाने के आदेश से शब्दों द्वारा या संगीत द्वारा या दृष्टि रुपयों द्वारा किसी व्यक्ति पर कोई लांछन लगाता है या प्रकाशित करता है

तो वह आईपीसी की धारा 499 के अंतर्गत अपराध माना जाएगा जिसके लिए उसे धारा 500 के अंतर्गत 2 वर्ष का कारावास या जुर्माने से अथवा दोनों से दंडित किया जा सकता है उसे आर्थिक व कारावास दोनों से दंडित किया जा सकता है

आईपीसी की धारा 499 के तहत

???? अपराधिक मानहानि

 

????दोस्तों जब कभी किसी व्यक्ति को आपत्तिजनक शब्दों द्वारा तड़ित किया जाता है तो वह मानहानि कहलाता है

 

????दोस्तों जब किसी व्यक्ति को किसी व्यक्ति के द्वारा लगाए गए लांछन गलत होते हैं तो वह मानहानि कहलाता है

 

????दोस्तों जब किसी व्यक्ति पर किसी व्यक्ति के द्वारा बोले गए या पढ़े जाने के लिए आशियित शब्दों द्वारा लांछन लगता है तो वह मानहानि कहलाता है

 

????दोस्तों जब किसी व्यक्ति किसी व्यक्ति को दृष्टि रुपणो द्वारा किसी व्यक्ति के बारे में कोई लांछन इस आशय से लगता है या प्रकाशित करता है और उस व्यक्ति को ऐसे लांछन से ख्याति की कहानी की जाए ऐसे लांछन को मानहानि कहते है

 

???? दोस्तों कभी भी किसी भी व्यक्ति के द्वारा आप के मान सम्मान व प्रतिष्ठा को ठेस लगना या आपके परिवार की मान सम्मान को उछालना इसके अंतर्गत होने वाले सभी अपराध मानहानि कहलाता है वह व्यक्ति आईपीसी की धारा 499 के तहत अपराधी माना जाएगा। 

✍️उदाहरण

किसी मृत्यु व्यक्ति को कोई लांछन लगाना, मानहानि की कोटि में आ सकेगा यदि व लांछन उस वक्त की छाती की यदि वह जीवित होता, अपहानी करता, और उसके परिवार या अन्य निकट संबंधियों की भावनाओं को उपहत करने के लिए आशयित  हो। 

✍️उदाहरण 

किसी व्यक्ति या कंपनी के समूह के संबंध में उसकी हैसियत, उसके रूप, उसकी आए मैं कोई लांछन लगाना मानहानि की कोटी के अंतर्गत आ सकता है 

✍️उदाहरण

दोस्तों परिवार के संबंध में या खुद के आत्मसम्मान या सामाजिक संस्था के संबंध में या व्यक्तिगत के रूप में अभिव्यक्त लांछन भी मानहानि के अंतर्गत आ सकता है

✍️उदाहरण

कोई लांछन किसी व्यक्ति की ख्याति की अपहानी

करने वाला नहीं कहा जाता जब तक कि वह लांछन दूसरे की दृष्टि में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष उस व्यक्ति की सदाचारी या बौद्धिक स्वरूप को हेय ना करें या उस व्यक्ति की जाति के बारे में न हो या उसकी आजीविका के संबंध में उसके सील को हेय ना करें या एक उस व्यक्ति की खास को नीचे ना गिराए या यह विश्वास ना कराए कि उस व्यक्ति का शरीर की दशा अच्छी या खराब हो या ऐसी दशा में है जो साधारण रूप से निकृष्ट समझी जाती है। 

यह भी पढे 

अपवाद

  • सत्य बात का लांचर लगाना या प्रकाशित किया जाना जो लोक कल्याण के लिए अपेक्षित है वह मानहानि नहीं है
  • जब कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति की भलाई के लिए प्रावधान करता है यावल लोक कल्याण के लिए अश्यित है वह मानहानि नहीं है
  • किसी लोक कल्याण प्रश्न के संबंध में किसी व्यक्ति के आचरण के बारे में और उसके सील के बारे में जहां तक उसका आचरण प्रकट होता है ना कि उसके आगे कोई राय चाहे वह कुछ भी हो सद्भाव पूर्वक अभिव्यक्त करना मानहानि नहीं है
  • अपने या किसी अन्य व्यक्ति की संरक्षा के लिए किसी व्यक्ति द्वारा भाव पूर्वक लगाया गया लांछन मानहानि नहीं है

दोस्तों बताएं गए कुछ निम्न तथ्य में से किसी तथ्य के अंतर्गत किसी व्यक्ति के द्वारा दिए गए बयान या ऐसी स्थिति में किया गया कार्य से वह व्यक्ति मानहानि नहीं करता है तथा व इस धारा से सुरक्षित है

मानहानि के अंतर्गत

  • किसी के प्रति अपमानजनक टिप्पणियां बयान करना 
  • किसी को अपमानित करना
  • किसी को बोले गए शब्दों से परेशान व शर्मिंदा करना।
  • किसी व्यक्ति को किसी व्यक्ति के द्वारा किसी भी प्रकार से क्षति पहुंचना
  • जो कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति को बयान या टिप्पणी से प्रकाशित करता है तो किसी दूसरे व्यक्ति को भी सूचित होना आवश्यक होता है
  • बयान सम्मानित प्रकृति का नहीं होना चाहिए

मानहानि के प्रकार

मानहानि दो प्रकार की होती है ?

 

✍️ दोस्तों जब कोई व्यक्ति सीटेक्स होम नहीं सरवाजानिक अस्थान पर ऐसे शब्द बोल कर की वजह से दूसरे व्यक्ति की मान सम्मान की अपर हानि होती है तथा उसके मान को ठेस पहुंचती है तो यह है मौखिक ( SLANDER ) मानहानि की श्रेणी में आता है

 

✍️ दोस्तों जब कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति को किसी तस्वीर या लिख कर या किसी संस्था विशेष की छवि खराब करता है तो वह लिखित मानहानि की श्रेणी में आता है और ऐसे अपराधी को लिखित ( LIBEL ) मानहानि  कहा जाता है

 

दोस्तों भारतीय दंड संहिता के अनुसार से अभिलेख एवं प्रवचन अप वचन दोनों ही प्रकार से मानहानि को दंडित दंडनीय अपराध माना जाता है और उसे आईपीसी की धारा 499 व 500 के तहत उसे दंडित किया जाता है

मानहानि का दावा कब और कैसे लगाया जा सकता है 

दोस्तो मानहानि का दावा हम तब लगा सकते है जब हम किसी व्यक्ति के द्वारा अपनी ख्याति या सामाजिक प्रतिष्ठा को गवा चुका है या ऐसा हो की वह गवा रहा हो और उस व्यक्ति को केवल बदनाम करने को किया है 

तो पीड़ित ऐसी स्थिति में अपनी प्रतिष्ठा वापस पाने के लिए वह मानहानि का दावा न्यायालय में कर सकता है जो धारा 499 के अंतर्गत आता है

पीड़ित मानहानि का दावा करके अपनी प्रतिष्ठा पुनः अपने अधिकार को प्राप्त कर सकता है 

साथ ही जो व्यक्ति यह अपराध किया है उस पर सजा और साथ ही आर्थिक दंड से उसे दंडित किया जा सकता है 

नोट अगर वह वास्तव में उसने यह अपराध किया है तो 

आईपीसी की धारा 499 के तहत लागू अपराध

दोस्तो जब कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति के साथ मानहानि करेगा तो 

✍️उसे 2 वर्ष का कारावास दे दिया जा सकता है 

✍️उसपर आर्थिक दंड भी लगाया जा सकता है 

✍️या उसको दोनो प्रकार कारावास व आर्थिक दंड से भी दंडित किया जा सकता है 

✍️यह एक गैर जमानती अपराध है 

✍️और प्रथम वर्ग  न्यायाधीश द्वारा विचारणीय है 

✍️यह अपराध जो किसी व्यक्ति द्वारा किए गए अपराध का समझौता करने योग्य है 

धारा 499 आईपीसी जमानत के  प्रावधान

दोस्तो यह एक गैर जमानत अपराध है यह अपराध पीड़ित व्यक्ति से साथ किए गए अपराध का समझौता करने योग्य है और साथ ही अपराध को प्रकृति जमानती है। 

निष्कर्ष

दोस्तों आज हम इस लेख के माध्यम से हमने यह पूरा प्रयास किया है कि आईपीसी की धारा 499 की पूर्णता जानकारी आपको मिल सके और आप इस धारा के अंतर्गत होने वाले कानून सजा अपराध को स्पष्ट रूप से समझ सके

दोस्तों हम आशा करते हैं हमारे द्वारा दी गई सारी जानकारियों से आप संतुष्ट होंगे

दोस्तों अगर आपको हमारा ये लेख पसंद आया हो तो आप हमारे पेज को लाइक और इस आर्टिकल को अपने मित्रों और सगे संबंधियों के साथ जरूर शेयर करें जिससे वह भी इस आईपीसी की धारा 499 से अवगत हो जाएं

दोस्तो अगर आपको कानून व्यवस्था से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी चाहिए या इस लेख में आपके मन में किसी प्रकार का भी शंका हो तो आप हमें कमेंट सेक्शन में कमेंट कर सकते हैं जिसकी जानकारी आपको जल्द से जल्द देने की हम पूरी कोशिश करेंगे। 

✍️धन्यवाद

Leave a Comment